उत्तराखंड पुलिस की कार्रवाई पर आपको भी गर्व होगा

पुलिस ने सिर्फ़ आठ घंटे में एक गुमशुदा नाबालिग़ लड़की को ट्रेस कर उसे परिजनों के सुपुर्द किया। लड़की घर से परेशान होकर दिल्ली पहुँच गई थी। कोतवाली ऋषिकेश में श्रीमती रीना रावत पत्नी मनोज रावत निवासी इंदिरा नगर ऋषिकेश द्वारा थाने में सूचना दी गई कि उनकी पुत्री कुमारी दीप्ति रावत उम्र 13 साल स्कूल पढ़ने के लिए गई थी, लेकिन अभी तक वापस नहीं आई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रभारी निरीक्षक ऋषिकेश द्वारा तत्काल थाने में गुमशुदगी / अपहरण का अभियोग पंजीकृत कर गुमशुदा की बरामदगी के लिए वरिष्ठ उपनिरीक्षक हेमंत खंडूरी के नेतृत्व में उपनिरीक्षक महिला सरोज कोहली व कांस्टेबल कमल जोशी की टीम बनाई गई व कुमारी दीप्ति रावत को तलाशने के हरसंभव प्रयास किए जाने के लिए निर्देशित किया गया टीम द्वारा गुमशुदा दीप्ति रावत के स्कूल के उसके दोस्तों व घर के आसपास लोगों से जानकारी एकत्रित कर दीप्ति रावत की तलाश के प्रयास किए गए व WhatsApp के माध्यम से गुमशुदा की फोटो जनपद देहरादून व राज्य के अन्य जनपद व उत्तर प्रदेश व दिल्ली पुलिस ग्रुप में भेजे गए व टीम हरिद्वार, मेरठ ,दिल्ली के लिए रवाना की गयी। इन प्रयासों के मध्य किसी अनजान नंबर से गुमशुदा के दोस्त को फोन किया गया। जो संभवत: गुमशुदा/ अपहर्ता द्वारा किया गया प्रतीत होता था। इसका पता तत्काल पुलिस को चला।

Uk Police Saved A Girl from getting kidnapped

पुलिस टीम द्वारा उक्त मोबाइल नंबर का लोकेशन लिया गया तो लोकेशन कश्मीरी गेट नई दिल्ली के पास का आया।रात्रि का समय होने के कारण व गुमशुदा का अनजान जगह कश्मीरी गेट पर होना पाए जाने के दृष्टिगत मामले की संवेदनशीलता की गंभीरता को देखते हुए टीम द्वारा तत्काल कश्मीरी गेट पुलिस से संपर्क किया गया।गुमशुदा का फोटो WhatsApp के माध्यम से कश्मीरी गेट पुलिस को भेजा गया और लोकेशन भी बताई गई। कश्मीरी गेट पुलिस के सहयोग से अपहर्ता को रात्रि करीब 10:00 बजे कश्मीरी गेट बस अड्डे के पास से सकुशल बरामद किया गया। पुलिस टीम द्वारा कुछ ही घंटों में दिल्ली पहुंचकर गुमशुदा दीप्ति रावत को बरामद कर ऋषिकेश लाया गया। वह सकुशल उसके परिजनों के सुपुर्द किया गया।

कुमारी दीप्ति रावत ने बताया कि वह घर की परेशानियों से परेशान होकर दिल्ली की बस में बैठ गई थी। बस ने उसे दिल्ली में कश्मीरी गेट के बाहर छोड़ दिया। वह अनजान शहर होने से वह घबराई हुई थी पुलिस की इस तत्परतापूर्वक कार्रवाई से गुमशुदा के परिजन व स्थानीय जनता द्वारा प्रशंसा की गई। पुलिस टीम में वरिष्ठ उपनिरीक्षक हेमंत खंडूरी, उप निरीक्षक सरोज कोहली, कांस्टेबल कमल जोशी, कांस्टेबल रोहित कुमार आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *