ज़िलाधिकारी ने बच्चों के साथ किया मध्याह्न भोजन

ज़िलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल का बच्चों से ख़ासा लगाव है। जब भी वह किसी गावँ में निरीक्षण या चौपाल के लिए जाते हैं तो वहाँ बच्चों से ज़रूर मिलते हैं। ग्राम पंचायत डोभा में चौपाल कार्यक्रम के बाद ज़िलाधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय के बच्चों के साथ मध्याह्न भोजन किया। साथ ही उन्होंने भोजन की गुणवत्ता भी देखी।

ज़िलाधिकारी ने बच्चों के साथ किया मध्याह्न भोजन

ज़िलाधिकारी ने बच्चों के साथ किया मध्याह्न भोजन

गुरुवार को जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल द्वारा ग्राम सभा डोभा विकास खण्ड जखोली में चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुनी एवं ग्राम सभा डोभा के अन्तर्गत हो रहे कार्यो का निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी ने चौपाल में अधिकारी को निर्देश दिये कि ग्रामीणो द्वारा जो भी समस्याये रखी गयी, उनका तत्काल निराकरण करना सुनिश्चित करे।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रो में विभिन्न प्रकार की स्वरोजगार योजनाये संचालित की जा रही है। जनता को सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओ का लाभ उठाना चाहिए। कहा कि ग्रामीण महिलाये महिला समूह बनाकर बंजर भूमि पर सब्जी का उत्पादन, मसाले की खेती, जडी-बूटी आदि की खेती करने को कहा। जिससे आजीविका में सुधार हो सके। कहा कि किसानो को अपने फसल का बीमा अवश्य कराना चाहिए। फसल का नुकसान होने पर मुआवजा के लिए ग्रामीणो को दर-दर नही भटकना पडेगा। जिलाधिकारी ने मनरेगा के तहत ग्राम सभा में 86 जाॅब कार्ड धारको द्वारा पिछले वर्ष कुल रू0 तीन लाख का कार्य हुआ। उन्होने कहा कि प्रत्येक जाॅब कार्ड धारक को एक वर्ष में 100 दिन कार्य मिलना चाहिए। उन्होने मनरेगा से चाल-खाल, वृक्षारोपण आदि कार्य करने को कहा। उन्होने कहा कि मनरेगा के अन्तर्गत गांव की भौगोलिक परिस्थिति को देखकर कार्य करना चाहिए तथा स्वरोजगार पर ध्यान देना होगा जिससे आर्थिकी स्थिति में सुधार हो सके।

इस अवसर पर ग्रामीणो द्वारा गांव को सड़क से जोडने की मांग रखी गयी। ग्रामीणो द्वारा बताया गया कि गांव को मोटरमार्ग से जोडने के लिए वर्ष 2008 में स्वीकृत मिली थी। लेकिन आज तक गांव मोटर मार्ग से नही जुड पाया है। इस अवसर उपस्थिति अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग द्वारा अवगत कराया गया कि सड़क का प्रस्ताव बनाकर भारत सरकार को प्रेषित किया गया था, लेकिन वन भूमि के कारण मोटर मार्ग की स्वीकृति प्राप्त नही हुई है। अधिशासी अभियन्ता द्वारा बताया गया कि डडोली-चैरा, डोभा गांव मोटर मार्ग से जोडा जा सकता है। जिसमें गांव के लोगो की खेती आ रही है। इस पर जिलाधिकारी ने कहा ग्रामीण आपस में बैठक कर आम सहमति बनाये जिससे गांव सड़क से जुड सके। चौपाल में डडोली निवासी त्रिलोक सिंह द्वारा भूमि सम्बन्धी शिकायत पर तसीलदार बसुकेदार को जांच करने के निर्देश दिये। साथ ग्राम प्रधान अरखुण्ड द्वारा ग्राम सभा पानी की समस्या, मिनी आगनवाडी केन्द्र खोलने आदि समस्याये रखी गयी। इस अवसर पर विभागीय अधिकारियों द्वारा अपने-अपने विभाग की योजनाओ की जानकारी ग्रामीणो को दी। चौपाल में ग्राम प्रधान डोभा श्रीमती शकुन्तला देवी, उपजिलाधिकारी देवमूर्ति यादव, तहसीलदार शालिनी मौर्य, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0 सरोज नैथानी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ रमेश सिंह नितवाल, परियोजना निदेशक एनएस रावत सहित जिला स्तरीय अधिकारी, ग्रामीण उपस्थित थे।

चौपाल के बाद जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल द्वारा राजकीय प्राथमिक विद्यालय डोभा का निरीक्षण किया। विद्यालय में छात्र संख्या 35 है। जिलाधिकारी द्वारा बच्चों के साथ बैठकर मध्याह्न भोजन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *