उत्तराखंड में एयरफील्ड को मजबूत करने को लेकर पूरा सहयोग करेगी भारतीय वायु सेना

भारतीय वायुसेना उत्तराखंड के एयरफील्ड को मजबूत करने में अपना सहयोग करेगी। इससे न केवल उत्तराखंड को फायदा होगा, बल्कि एयरफोर्स के लिए भी सामरिक दृष्टि से यह काफी फायदेमंद साबित होगा। आपदा और बचाव राहत कार्य में एयरफोर्स का भी सहयोग लिया जा सकेगा।

सोमवार को एयर मार्शल एएस बुटोला ने सचिवालय में मुख्य सचिव एस रामास्वामी से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने उत्तराखंड के एयर फील्ड व एयर स्ट्रिप को लेकर चर्चा की। विशेषकर पर्वतीय व सीमांत जिलों में हवाई सेवा पर इस दौरान चर्चा हुई। बताया गया कि आपदा के दौरान एयरफोर्स की भूमिका काफी अहम रही। एयरफोर्स ने प्रभावितों को बाहर निकालने में बेहतर कार्य किया।

हालांकि, प्रदेश के एयर फील्ड व एयर स्ट्रिप के मानकों के पूरा न होने के चलते एयरफोर्स अपनी क्षमताओं का पूरा उपयोग नहीं कर पाई। इस अनुभव के आधार पर निकट भविष्य में एयरफोर्स के साथ समन्वय बनाए रखने पर सहमति बनी। इस दौरान एयर फोर्स ने बीते दिनों राज्य के हेलीपैड के सर्वे की स्थिति से शासन को अवगत कराया। एयरफोर्स के सहयोग की जरूरत को देखते हुए एयर फील्ड को सुदृढ़ करने पर भी सहमति बनी।

बैठक में सिविल-मिलिट्री लाइजन समिति की बैठक में एयरफोर्स को भी शामिल करने पर चर्चा हुई। निर्णय लिया गया कि वर्ष में कम से कम दो बार इस तरह की समन्वय बैठकों का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान मुख्य सचिव ने एयर मार्शल को बताया कि रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत राज्य में हवाई सेवाओं को भी सुदृढ़ किया जा रहा है। इससे पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। आपदा की स्थिति में राहत बचाव कार्य को सहयोग मिलेगा।

वहीं, सूत्रों की मानें तो चीन से बढ़ती तल्खी के बीच एयरफोर्स उत्तराखंड के सीमांत जिलों में अपनी मजबूत उपस्थित दर्ज करना चाहती है। इसी कारण अब वह यहां के एयर फील्ड व एयर स्ट्रिप को मजबूत करने पर जोर दे रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *